बदलते मौसम में एक महीने बिना साबुन और मॉइस्चराइजर रहने की कोशिश करें

मौसम में बदलाव के साथ हल्की गर्मी शुरू हो चुकी है। इस मौसम में ज्यादा मॉइस्चराइजर चेहरे पर नहीं लगाएं। बालों और त्वचा की देखभाल

ज्यादा मॉइस्चराइजर लगाने से पसीना आने पर स्किन इंफेक्शन की संभावना बढ़ जाती है। 

लाल दाने के साथ खुजली महसूस होती है। इसलिए मॉइस्चराइजर लगाएं।

त्वचा की देखभाल के लिए अपनाएं ये तरीके

फूलो से निकलने वाले परागकण के कारण भी भी चेहरे, गर्दन व कोहनी पर एलर्जी हो सकती है। इससे बचाव के लिए क्रीम की बजाय जैल बेस्ड सनस्क्रीन लगाएं। ताकि चेहरे पर एक्ने की परेशानी नहीं हो पाएं।

डॉ.दिलीप कछवाहा, डर्मेटोलॉजिस्ट, जोधपुर

 

साबुन का उपयोग कम से कम करें

इस मौसम स्किन को साबुन की ज्यादा जरुरत नहीं है। एक महीने बिना साबुन और मॉइस्चराइजर रहने की कोशिश करें। अन्यथा स्किन से संबंधित परेशानी हो सकती है।

स्किन के साथ ज्यादा छेड़खानी नहीं करें। ऑयली स्किन के लिए माइल्ड फेसवॉश व ड्राय स्किन के लिए सल्फेट फ्री फेसवाश लगाएं। 

इस मौसम में एलर्जी ज्यादा होती है। पूरा हाथ कवर कर रखें। अगर स्किन कम ऑयली है तो माइल्ड फेशवॉश चेहरा साफ करने के लिए पर्याप्त है। 

स्किन ज्यादा ऑयली होने पर सेलेसेलिक एसिड, गिलाइकॉलिक एसिड, मैनेलिक एसिड से बने हुए फेश वॉश का इस्तेमाल करें। इनका उपयोग स्किन की जरूरत के मुताबिक करें। इससे ज्यादा नहीं।

फेश वॉश करने के बाद स्किन ड्राय व ऑयली नहीं दिखनी चाहिए।

सनस्क्रीन दो-तीन घंटे के लिए बचाव करते है। क्रीम व लोशन नहीं, जैल बेस्ड लगाएं।

बालों को खुला नहीं रखें

  • निगेटिव चार्ज होने से बनने वाली इलेक्ट्रीसिटी पहुंचाएगी नुकसान।
  • बालों में ड्रायर का इस्तेमाल नहीं करें। 
  • माइल्ड शैंपू के बाद कंडीनशर लगाएं। 
  • ऑयल स्कैलप होने पर माइल्ड शैंपू लगाएं।
  • ऑयल सबसे बेहतरीन कंडीशनर है। कोकोनट सबसे बेहतरीन ऑयल है। इसे कंडीशनर की तरह यूज करें। बालों में झटका नहीं दें, ना ही रगड़कर साफ करें।
  • ज्यादा देर बालों को खुला नहीं रखें। खुले बालों में निगेटिव चार्ज होने से इलेक्ट्रीसिटी बनती है।
  • रात में बालों की देखभाल करना जरूरी।

 

यह बालों की शेल्फ डैमेज कर इन्हें नुकसान पहुंचाती हैं। बालों को डैमेज होने से बचाने के लिए सीरम लगाए। यह बालों में ब्लड वैसल्स में ब्लड सर्कुलेशन बढ़ाता है। इससे बालों की प्रोटेक्टिव लेयर का बचाव होता है।

 

बाल ड्राय नहीं हो पाते हैं। बाल ड्राई होने पर इन पर बनी हुई पतली फिल्म पूरी तरह से डैमेज हो जाती है, जो एक तरह से प्रोटेक्टिव लेयर की तरह काम करती है।

 

टावल से रगड़कर भी बालों को नहीं सूखाएं। ज्यादा रगडने से बाल डैमेज होंगे। महिलाएं सप्ताह में दो बार और पुरष एक बार शैंपू करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *