कड़वी नीम के 8 जबरदस्त फायदे, जो रखेंगे आपको निरोगी

नीम के रूप में प्रकृति एक अद्भुत वृक्ष विरासत में दिया है। यह पेड़ भारतीय उपमहाद्वीपके शुष्ट व अर्द्धशुष्क भागों में तेजी से बढ़ने वाला सदाबहार और असमान्य जलवायु को सहने वाला है।

नीम का वैज्ञानिक नाम ऐजाडिरेक्टा इंडिका है। यह मैजिएसी कुल का वृक्ष है। 

भारत में इसे विभिन्न प्रदेशों में अलग अलग नामों से जाना जाता है। संस्कृत में निम्ब, हिंदी में नीम मराठी में कडु निंब, बंगाल में निम गाछ, गुजरात में लीमडो. तेलगू में वेप, कन्नड़ में वेड बेब और मलयालम में वीप्पा, अंग्रेजी में मारगोसा व फारसी में आजाद दरख्त-ए-हिंद भी कहते हैं।

यह भारत के अलावा दक्षिण पूर्व एशिया, अफ्रीका, मध्य अमरीका, मॉरिशस, फिजी दक्षिण अरब, यमन, फिलीपींस आदि में भी मिलता है।

इसके अद्भुत गुण और इससे बनने वाले हर्बल उत्पादों के कारण इसे विश्वव्यापी प्रसिद्धि मिली है। नीम के फल मई से जुलाई के मध्य परिपक्व हो जाते हैं। इ

मुख्यतः बीजों के जरिए लगाया जाता है। यह सूखी, पथरीली, रेतीली, उथली, गहरी या चिकनी सभी प्रकार की भूमि में उग सकता है।

यह अनेक गुणों वाला वृक्ष है। इसके सभी अंग के फायदे यानी पत्ते, फल,छाल, रस आदि औषधि के रूप में प्रयोग किए जाते हैं।

नीम का उपयोग कई सदियों से सभी कर रहे हैं पर कुछ बातों से आज की पीढ़ी अनजान है। उन्हें इसके महत्त्व को समझना होगा।

 

नीम के फायदे

यह का उपयोग कई घरेलू और अन्य औषधियों में होता है। आइए देखते हैं नीम किन-किन चीजों में फायदेमंद होता है और इन्हें कैसे इस्तेमाल करना चाहिए

1. बालों के लिए

नीम की पत्तियां उबालकर ठंडा कर बालों में लगाने पर बालों का झड़ना और सिर में होने वाली फुंसियों में राहत मिलती है। बालों की जड़ों में नीम का तेल लगाकर अंगुलियों से मालिश करने से जूं और लीख नष्ट हो जाती हैं।

2. दाद में फायदा

नीम के पत्तों को दही के साथ पीसकर दाद पर लगाने से दाद ठीक होता है।

3. जोड़ों का दर्द

नीम के तेल की मालिश करने से जोड़ों के दर्द में आराम मिलता है।

4. पायरिया

दांतों के रोगों, विशेषकर पायरिया में नीम की पत्तियों को उबालकर ठंडा कर चबाएं तो राहत मिलती है। प्राचीनकाल से ही नीम की टहनियां दातून के रूप में इस्तेमाल की जाती रही हैं।

5. कब्ज में फायदेमंद

नीम के फूल गर्म पानी में डालकर मसलें और छान लें। इस पानी को सोते समय पिएं। कब्ज दूर होता है। इसकी कोमल पत्तियों को शहद में मिलाकर या कालीमिर्च के साथ लेने पर पेट के कीड़े मर जाते हैं।

6. बिच्छू काटने पर नीम के पत्ते लगाएं

नीम के पत्तों को पीसकर बिच्छू काटे पर लगाने से राहत मिलती है।

7. गर्मी के मौसम में

नीम कोपलों के रस में मिश्री मिलाकर एक सप्ताह तक सुबह, शाम पीने से गर्मी से राहत मिलती है। नीम के पचांग को पीसकर तलवों पर लेपने से जलन कम होती है।

8. दस्त में फायदेमंद

सूखी पत्तियां पीसें। इसमें चीनी मिलाकर खाने से आराम मिलता।

 

2 Comments

  1. नीम का पंचांग क्या है , कैसे बनाया जा सकता है और लगाने की पूर्ण विधि बताने की कृपा करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *