नींद कितनी लेनी चाहिए? और नींद के फायदे और नुकसान

अच्छी नींद लेने से हमारा शरीर चुस्त दुरुस्त रहता है और कार्य शक्ति भी बढ़ती है। रात में अगर 2 घंटे कि कम नींद लेने से हमारे शरीर में कई तरह के दुष्प्रभाव सामने आ सकते हैं। जैसे कि उदासी, मानसिक तनाव, दिमाग कम चलना, भय, चिंता और डिप्रेशन का कारण भी बन सकती है कम नींद लेने की वजह से दिमाग में कई तरह के बुरे ख्याल भी आने लगते हैं।

 नींद नहीं आने पर क्या करें?, रात में अच्छी नींद के लिए क्या करें?, नींद न आना कौन सी बीमारी है?, क्या खाने से नींद आती है?, नींद की होम्योपैथिक दवा, नींद की दवा क्या है, नींद आने की दवा पतंजलि, नींद आने की दवा घरेलू उपाय, नींद की गोली खाने से क्या होता है, नींद आने का रामबाण उपाय, गहरी नींद आने के उपाय, नींद in English, नींद की गोली

नींद न आना

नींद न आना एक बीमारी भी हो सकती है। नींद न आने की बीमारी को अनिद्रा कहते हैं। इसमें व्यक्ति को नींद नहीं आती है। क्योंकि बदलती जीवनशैली के साथ-साथ हमारे जीवन में कई तरह के बदलाव हो गए हैं भागदौड़ वाली जिंदगी, अधिक कामकाज और बदलते खान-पान के कारण भी नींद की समस्या हो रही है। बढ़ते कामकाज के कारण समय पर नींद नहीं ले पाते जिस कारण तनाव भी बढ़ता जाता है और कई मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। सोशल मीडिया पर लगातार बने रहने के कारण भी लोग कई घंटों तक अपने मोबाइल में ही देखते रहते हैं और इस कारण वे लंबे समय तक जागते रहते हैं फिर उन्हें सोने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है क्योंकि उनको नींद नहीं आती है।

रात को बुरे सपने तो नहीं आते- जानिए इसके बारे में

कम नींद लेने के नुकसान

कम नींद लेने के कई नुकसान होते हैं।

  • चिड़चिड़ापन
  • गुस्सा आने लगता है।
  • भूलने की समस्या बढ़ सकती है।
  • डिप्रेशन का शिकार भी हो सकते हैं।
  • भय
  • आंखों के नीचे काले घेरे बनने लगते हैं।
  • दिमाग कम काम करना
  • कमजोर रोग प्रतिरोधक क्षमता होना
  • उदासी
  • चिंता
  • मानसिक तनाव
  • अनिद्रा
  • कम नींद लेने से सड़क दुर्घटना का खतरा भी बढ़ जाता है।

नींद कितनी लेनी चाहिए?

एक स्टडी के अनुसार व्यक्ति को उसकी अवस्था के अनुसार नींद लेनी चाहिए।

  • शिशु को 14 से 17 घंटे कि नींद लेनी चाहिए लेकिन नवजात शिशु 19 घंटे भी सो सकता है।
  • सामान्य व्यस्क को कम से कम 7 से 9 घंटे की नींद अवश्य लेनी चाहिए इससे अधिक और इससे कम नींद न ले।
  • बुजुर्ग या वृद्धा अवस्था में व्यक्ति 7 से 8 घंटे की नींद लें। उनके अनुसार यह सोने का समय सही है।

 

नींद नहीं आने पर क्या करें?

नींद नहीं आने पर आप यह उपाय कर सकते हैं।

  1. अगर आप सो रहे हो और काफी देर हो गई फिर भी आपको नींद नहीं आ रही है, तो आप अपने शरीर को बिल्कुल ढीला छोड़ दें और कुछ भी न सोचे। ऐसा महसूस करें मानो आप अंधेरे कमरे में हो और झूले पर झूल रहे हो। ऐसा करने पर कुछ देर में आपको नींद आ जाएगी।
  2. अच्छी नींद के लिए आप नींद का संगीत भी सुन सकते हैं। इससे अच्छी नींद लेने में काफी मदद मिलेगी।
  3. अगर सोते समय 15 मिनट तक हम अपने शरीर को नहीं हिलाते हैं तो हमें खुद ब खुद नींद आनी लगती है।
  4. नींद ना आने पर कभी भी डॉक्टर की सलाह के बिना कोई भी नींद की दवा या नींद की गोली नहीं लें इससे समस्या बढ़ सकती है।
  5. यदि नींद ना आने की आपको कुछ ज्यादा ही समस्या हो रही है और लंबे समय से आप काफी परेशान है तो तुरंत अपने डॉक्टर से परामर्श लें।

दोपहर में सोने की आदत

वर्क फ्रॉम होम के दौरान लोगों के वर्किंग आवर में औसतन 3 घंटे की बढ़ोतरी हुई है। इससे थकावट और तनाव बढ़ा है। इससे निपटने में दिन में ली गई 10 से 20 मिनट की झपकी कारगर हो सकती है। इससे आपका रिएक्शन टाइम और अलर्टनेस बढ़ती है। जो आपके परफॉर्मेंस को सुधारती है। 

 

दिन में कितने घंटे सोना चाहिए?

हार्वर्ड मेडिकल स्कूल के अनुसार दिन में 30 मिनट से अधिक झपकी नहीं लेनी चाहिए। क्योंकि इसमें ताजगी की जगह थकावट आती है।

 

दिन में सोने वाला को क्या कहते है?

दोपहर या फिर दिन के समय हम ज्यादा लंबी नींद नहीं लेते हैं और ना ही ज्यादा लंबी नींद लेनी चाहिए। दिन में छोटी नींद को झपकी कहते हैं।

 

छोटी नींद के फायदे

 

1. सामंजस्य बढ़ता है

10 से 20 मिनट की झपकी साइकोमोटर स्पीड यानी दिमाग और शरीर का सामंजस्य, रिएक्शन टाइम और अलर्टनेस बढ़ाती है।

 

2. बच्चे शब्द जल्दी सीखते हैं

विले ऑनलाइन लाइब्रेरी में 2015 में प्रकाशित एक शोध के अनुसार गर्मियों में झपकी से बच्चे शब्द जल्दी सीखते हैं। याददाश्त बेहतर होती है। लॉन्ग टर्म मेमोरी को फायदा होता है।

 

3. ब्लड प्रेशर घटता है

अमेरिकन कॉलेज ऑफ कार्डियोलॉजी में प्रकाशित शोध के अनुसार दोपहर की झपकी ब्लड प्रेशर को उल्लेखनीय रूप से कम करती है।

 

4. महिलाओं में झम्यूनिटी बढ़ती है

वेब एमडी के अनुसार झपकी से महिलाओं में इम्यूनिटी बढ़ती है। खासकर 40 वर्ष से अधिक उम्र की महिलाओं को ज्यादा फायदा होता है। क्योंकि उन्हें मेनोपॉज की शुरुआत होने लगती है।

भरपूर नींद लेने के फायदे

  • अच्छी नींद लेने से मन तरोताजा रहता है।
  • दिमाग तेज काम करने लगता है।
  • दिल के रोगों से छुटकारा मिलता है और कोलेस्ट्रोल की मात्रा काफी घट जाती है।
  • याददाश्त तेज हो जाती है और सीखने की क्षमता काफी अच्छी हो जाती है।
  • वह प्रतिरोधक क्षमता अच्छी रहती है और स्वस्थ रहते हैं।
  • आंखों के नीचे काले घेरे नहीं होते है।

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *