बच्चों में मोटापा : रोजाना 60 मिनट खेल, 9 घंटे की नींद जरूरी, खाते वक्त टीवी देखने से रोकें

बदलती जीवनशैली में लगाई गई विभिन्न पाबंदियों के कारण कई परिवार बच्चों के बढ़ते मोटापा और वजन को लेकर चिंतित हैं, हालांकि इसका अर्थ यह नहीं है कि बच्चों से डाइटिंग कराई जाए। ऐसा करने से बड़े होने पर उनमें ईटिंग डिसऑर्डर का खतरा बढ़ता है। बच्चों के शरीर में बदलाव होना सामान्य प्रक्रिया है। फिर चाहे महामारी हो या फिर न हो। 

जब तक उनमें हाइट नहीं बढ़ती शरीर गोल-मटोल होता है। बच्चों के बढ़ते वजन की चिंता करने के बजाय माता-पिता को चाहिए के वे उनकी भावनात्मक और शारीरिक दोनों तरह से देखभाल पर फोकस करें। 

ऐसा पाया गया है कि जब हम बच्चे को किसी चीज को खाने से रोकते हैं तो वह उसे और अधिक खाने लगता है।

बच्चों को ज्यादा टोकने से बेहतर है कि खाने-पीने और रोजमर्रा की दूसरी आदतों जैसे खेल-कूद, डिजिटल एक्सपोजर के बेहतर शेड्यूल को फॉलो किया जाए।

3 से 5 वर्ष के बच्चों को दिनभर एक्टिव रखें

 

सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंसन (सीडीसी) के अनुसार 3 से 5 साल तक के बच्चों को दिन भर एक्टिव रहना चाहिए, जबकि 6 से 17 वर्ष तक के बच्चों को हर दिन 60 मिनट शारीरिक गतिविधि करनी चाहिए। एरोबिकट एक्टिविटी के अलावा हड्डियों को मजबूत करने वाली दौड़, कूद और मांसपेशियों को मजबूत करने वाली गतिविधियां जरूर शामिल हों।

 

टीवी देखते समय खाने की आदत बदले

हार्वर्ड रिसर्च के अनुसार दो घंटे से अधिक स्क्रीन के सामने बिताना नुकसानदायक है, लेकिन कोरोना के दौरान बच्चों का स्क्रीन टाइम ऑनलाइन क्लासेज की वजह से बढ़ गया है। एक शोध के अनुसार टीवी देखते समय बच्चे जरूरत से अधिक खाते हैं। इससे मोटापा बढ़ता है। इस खतरे से बचने के दो उपाय हैं। भोजन के समय बच्चों को टीवी न देखने दें और सोने के दो घंटे पहले स्क्रीन संबंधी गतिविधयां बंद करा दें।

 

100 कैलोरी से कम वाले ये विकल्प वजन घटाने में सहायक

 

6 से 12 साल के बच्चों को रोज 1600 से 2200 कैलोरी की जरूरत होती है।

बदलती जीवन शैली के दौर में घर में रहकर बार-बार खाने से बच्चों का कैलोरी इंटेक बढ़ गया है।

ऐसे में जब वे कुछ खाने के लिए मांगे तो उन्हें एक गाजर, सेव या केला, थोड़े अंगूर दे सकते हैं।

इनमें 100 से भी कम कैलोरी होती है।

 

6 से 12 साल के बच्चों को 9 से 12 घंटे तक सोना जरूरी

 

सीडीसी के अनुसार 3 से 5 साल के बच्चों को 10-13 घंटे (झपकी भी शामिल है), 6-12 साल, 9-12 घंटे और 13-18 वर्ष के किशोरों को 24 घंटे में 8-10 घंटे की नींद जरूरी है। दरअसल अपर्याप्त नींद अधिक खाने और शारीरिक रूप से निष्क्रिय रहने के लिए प्रेरित करती है।

वजन घटाने का तरीका

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *